Loading...

सब्सक्राइब करें सब्सक्राइब करें सब्सक्राइब करें

फ्रुक्टोज आपके लिए खराब क्यों है?

25 अगस्त 2022 - पारुल सैनी, वेबमेडी टीम


फ्रुक्टोज को एक साधारण चीनी के रूप में वर्गीकृत किया जाता है और यह प्राकृतिक रूप से फलों या शहद के रूप में आहार में पाया जाता है। फ्रुक्टोज एक प्रकार की चीनी है जो लगभग 50% टेबल चीनी और उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप बनाती है। मिठास, उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप (एचएफसीएस) और सुक्रोज के बढ़ते सेवन से इसकी खपत में भारी वृद्धि हुई है। ये स्वीटनर्स कई मीठे सॉफ्ट ड्रिंक्स में मौजूद होते हैं।

फ्रुक्टोज का मीठा प्रभाव ग्लूकोज की तुलना में अधिक होता है। यह लोगों को फ्रुक्टोज वाले सॉफ्ट ड्रिंककस के लिए अधिक तरस पैदा कर सकता है। ज़ादा फ्रुक्टोज खाने से मोटापे और कई अन्य बिमारियों का कारण बन सकता है।

लिवर पर फ्रुक्टोज का प्रभाव

फ्रुक्टोज क मेटाबोलिज्म और ग्लूकोस के मेटाबोलिज्म में बहुत अंतर है। ग्लूकोज का मेटाबोलिज्म हर सेल कर सकता, लेकिन फ्रुक्टोज का मेटाबोलिज्म केवल लिवर द्वारा किया जाता है। बड़ी मात्रा में फ्रुक्टोज का सेवन करने से लीवर पर काफी दबाव पड़ सकता है।

जब बड़ी मात्रा में फ्रुक्टोज लिवर तक पहुंचता है, तो लिवर फैट बनाने के लिए अतिरिक्त फ्रुक्टोज का उपयोग करता है, एक प्रक्रिया जिसे लिपोजेनेसिस कहा जाता है। फ्रुक्टोज के अत्यधिक सेवन से नॉन-अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग विकसित हो सकता है, जिसमें लिवर सेल्स में बहुत अधिक फैट जमा हो जाता है।

फ्रुक्टोज का मीठा प्रभाव ग्लूकोज की तुलना में अधिक होता है। यह लोगों को फ्रुक्टोज वाले सॉफ्ट ड्रिंककस के लिए अधिक तरस पैदा कर सकता है। ज़ादा फ्रुक्टोज खाने से मोटापे और कई अन्य बिमारियों का कारण बन सकता है।

अधिक फ्रुक्टोज के हानिकारक प्रभाव

  • फ्रुक्टोज वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे अंगों के आसपास फैट जमा हो सकता है और संभावित हृदय रोग हो सकता है।
  • रक्त में यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ाता है, जिससे गाउट और हाई ब्लड प्रेशर होता है।
  • लिवर में फैट के जमाव का कारण बनता है, जिससे संभावित रूप से फैटी लिवर रोग हो सकता है।
  • इंसुलिन रेजिस्टेंस का कारण बनता है, जिससे मोटापा और टाइप 2 डायबिटीज हो सकता है।
  • फ्रुक्टोज भूख को उतना नहीं दबाता जितना ग्लूकोज दबाता है। नतीजतन, यह अधिक खाने को बढ़ावा दे सकता है।
  • अधिक फ्रुक्टोज के सेवन से लेप्टिन रेजिस्टेंस हो सकता है, शरीर में फैट के नियमन में गड़बड़ी हो सकती है और मोटापे में योगदान हो सकता है।

फ्रुक्टोज मेटाबोलिक सिंड्रोम या इंसुलिन रेजिस्टेंस का कारण कैसे बन सकता है?

मेटाबोलिक सिंड्रोम रिस्क फ़ैक्टरों का एक संग्रह है जो हृदय रोग, स्ट्रोक और डायबिटीज के विकास की संभावना को बढ़ाता है। इस स्थिति को अन्य नामों से भी जाना जाता है, जिसमें इंसुलिन रेजिस्टेंस सिंड्रोम, सिंड्रोम एक्स और डिस्मेटाबोलिक सिंड्रोम शामिल हैं।

फ्रुक्टोज का ग्लाइसेमिक इंडेक्स ग्लूकोज की तुलना में बहुत कम होता है।

फ्रुक्टोज को फैट में बदला जा सकता है। इससे मेटाबोलिक सिंड्रोम नामक खतरनाक स्थिति हो सकती है। जब आप फ्रुक्टोज का सेवन करते हैं, तो आप फ्रुक्टोज से ग्लूकोज भी उत्पन्न करते हैं। फ्रुक्टोज का सेवन इंसुलिन रेजिस्टेंस पैदा कर सकता है।

सूचित रहें।


नवीनतम समाचार, केस स्टडी और विशेषज्ञ सलाह सहित पुरस्कार विजेता उद्योग कवरेज तक पहुंच प्राप्त करें।

प्रौद्योगिकी में सफलता सूचित रहने के बारे में है!

सोशल प्लेटफॉर्म पर हमें फॉलो करें


नवीनतम वीडियो के लिए वेबमेडी यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

संबंधित पोस्ट


श्रेणियाँ


ट्रेंडिंग पोस्ट


सूचित रहें।


नवीनतम समाचार, केस स्टडी और विशेषज्ञ सलाह सहित पुरस्कार विजेता उद्योग कवरेज तक पहुंच प्राप्त करें।

प्रौद्योगिकी में सफलता सूचित रहने के बारे में है!

सब्सक्राइब करें सब्सक्राइब करें सब्सक्राइब करें

सोशल प्लेटफॉर्म पर हमें फॉलो करें


नवीनतम वीडियो के लिए वेबमेडी यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

Loading...

सोशल प्लेटफॉर्म पर हमें फॉलो करें


नवीनतम वीडियो के लिए वेबमेडी यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

Loading...

© 2023 अर्डिनिया सिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड। सर्वाधिकार सुरक्षित।
प्रकटीकरण: इस पृष्ठ में सहबद्ध लिंक हैं, जिसका अर्थ है कि यदि आप लिंक के माध्यम से खरीदारी करने का निर्णय लेते हैं, तो हमें एक कमीशन मिलता है।
गोपनीयता नीति
वेबमेडी अर्डीनिया सिस्टम्स का एक उत्पाद है।